Thursday, December 28, 2017

चचा चारों खाने चित्त

ये वृतान्त मेरे बचपन की है, जब हम पड़ोस के बच्चो के साथ खेलते हुए बड़े हुए ना की अपने अपने मोबाइल फोन पे टेम्पल रन खेल के, उस समय कहानी सुनना ही पसन्दीदा काम हुआ करता था | ना ही कोई निन्जा हतोड़ी हुआ करता था और न ही कोई डोरेमोन | बड़ा अच्छा समय था और उसी समय की आँचल से एक कहानी निकाल के लाया हूँ | बात हमारे पडोसी फेकू चचा (चाचा ) की है उन का नाम लेना सही नहीं होगा इसलिए  हम उन्हें इस कहानी में   कमल के नाम से सम्बोधित करते हैं और बांकी पोस्ट की तरह इस पोस्ट में  भी मेरे पिताजी घटना के केन्द्र में  हैं | कमल चाचाजी पिताजी के अच्छे  मित्र थे और दोनों के  बीच में  खींच तान हर दूसरे  मित्र की तरह बदस्तूर जारी था | यूँ तो चाचाजी स्वभाव  के बड़े सरल व्यक्ति थे परन्तु जब चाचा कहानी सुनाते  तो उनकी कहानी आम से शुरू हो के अमरूद तक पहुच जाती और अंत में  चाचाजी कहानी के  नायक की तरह असंभव वस्तु और व्यक्ति  पर विजय प्राप्त कर लेते , चुकि हम थे तो बच्चे और हर असंभव वस्तु हमे चकाचौंध करती अतः  चाचा हमलोगों में  बड़े पॉपुलर थे | गर्मी का मौसम था और चाचा को घेर के बच्चो की मंडली कहानी सुनाने की ज़िद करने लगे, चाचाजी ने  चिर परिचित अंदाज़  में कहानी की शुरुआत  की |
ये कहानी उनकी एक ट्रेन  यात्रा  की थी, कमल  चाचाजी आपने कुछ मित्रों के साथ  पटना जा रहे थे त्योहार का समय था और ट्रेन में काफ़ी भीड़ थी, अभयपुर स्टेशन आने ही वाला था और लगभग शाम हो चली थी , अभयपुर के पास जंगल था और ट्रेन जंगल के पास ही अचानक झटके के साथ रुक गई और २-४ लोग जिनके हाथों में हथियार और मुँह पे कपड़ा बंधा था ट्रेन की ओर लपके और  ट्रेन को   लूटने लगे |  चाचाजी आपने दोस्तो के साथ ट्रेन कोच  के  दरवाज़े की ओर लपके और उसे बंद कर दिया , जब तक लुटेरे उनके कोच की तरफ पहुंचे तब तक लोगों ने सारे खिड़की और दरवाजे बंद कर के या तो सामान वाली जगह पर या गाड़ी के फर्श   पे लेट गए और लुटेरो को भागने पे मजबूर कर दिया |  जैसे ही उनकी कहानी समाप्त हुई हम सभी बचे ताली बजने लग गये इतने में  पिताजी भी ऑफिस से आ  गए | पिताजी चाचा के स्वभाव को भली भांति जानते थे और वो चाय की चुस्की लेते हुए बोल पड़े "ये तेरा बड़बोला पन किसी दिन तुझे मुसीबत में डाल देगा " | बात आई गई और दिन गुज़रने लगे चाचाजी कुछ दिनों बाद फिर आए और इस बार कहानी में  उन्हों ने शेर का शिकार ही कर लिया - पिताजी ने समझाया भी, कि  बच्चों  को गलत आदत मत लगओ ये भी तुम्हरी तरह झूठ बोलने लगेंगे  , पर चाचा कहाँ मनने वाले थे |  बस अब पापा तय कर चुके थे की पानी  सर से ऊपर निकल गया है और कुछ करना आवश्यक है |  ठण्ड का मौसम था और अंधेरा जल्दी हो गया था कमल चाचा चाय की चुस्की लेन पहुंच गए पर आज पिताजी दफ्तर से अभी तक वापस नहीं आये थे , माताजी ने चाचा से कहा की कमलजी पीछे आहाते से कुर्सी ला दीजिए  और चाचा मस्त चल में आहाते की और बढ़ चले | हमारे आहाते में काफी पेड़ थे और अंधेरे में  बड़ा भयावह लगता थाबचपन में  तो कई बार मैं भी डर  गया था पर चाचा को आने वाले संकट का कोई आभास नहीं था , पिताजी ने आज पूरी बिसात बिछा रखी थी चाचा को सबक सिखाने के लिये | उपलों से किये  गए  धुंए ने आहाते को और भयावह बना रखा था , माहौल को देखते ही चाचा की हवा टाइट हो गयी और जैसे तैसे अंधेरे  में  कुर्सी तलाशने लगे | अभी थोड़ा ही आगे बढे थे की उनके ऊपर  कुछ गिरा बस चीख निकलते निकलते रह गयी , हमारे महानायक चाचा आज के  दिन को कोसते हुए अंधेरे  मैं इधर उधर टटोल रहे थे आखिरकार उनकी मेहनत सफल तो हुई पर कुर्सी खली नहीं थी उसपे कोई बैठा था , चाचा को काटो तो खून नहीं और डर ऐसा जिसका को वर्णन नहीं |  चाचा धीरे  धीरे  पीछे सरकने लगे तभी कुर्सी पे बैठे उस आदमी ने उनका हाथ पकड़ लिया और उसके मुँह से लाल रंग की रौशनी निकली पुरे शरीर पे काला कपडा और चेहरे पे भी कला और सफ़ेद कपडा लटका हुआ था और वो वस्तु जोर जोर से डरावनी हंसी में  हंसने लगा, चाचा  गिरते पड़ते वहां से भागे और उनकी चीक सुनके हम सब वहां  जमा  हो गए थे बहादुर की सरी हिम्मत हवा हो गयी और वो ठण्ड में  भी पसीने पसीने हो गए |  उधर पिताजी चेहरे से काला कपड़ा हटाते और   मुस्कराते  हुए आहाते से  आ रहे थे |
एक वो वाक्या  था जिसके बाद चाचाजी  ने कहानी तो सुनाई पर हवाबाज़ी बंद कर दी थी | 

Monday, December 11, 2017

The delicious life……



Book Title: This delicious life
Author: Lekshmi Gopinathan
Format: Kindle
Number of pages : 214
Sold By: Amazon Asia-Pacific Holdings Private Limited
Publishing Date: 11th Nov 2017
Printed Price: INR 49

Writer: I was fascinated by lekshmi Gopinathan way of portraying different characters and never let go hold of any of them.  The proficiency by which the writer takes the story forward is remarkable. The chapter wise presentation of book based on 2 lead character makes reading easy and enjoyable. As we move forward with the story the manner in which the pasts of character unfold is intriguing and finally they converge in the end. The character and story are standalone genius but what makes it a marvel is the inception of food and recipe and becomes the backbone of the story.
Story: The protagonists radhamma and matilda who are heart broken and find a way to mend their soul by food and their sole love emvibed in cooking. Being an avid foodie, I was blown away by both conventional south indian delicacy and unconventional English dishes. At times I was so engulfed that I started smelling food. The men around radhamma and matilda just compliment them. Radhamma is on a quest to revive the life of the villagers of irralipatinam by social and economic reforms education and employment. While may is ridden by loss of her mother and she goes on a bike quest to rediscover her zeal of living and lost happiness. The men in may’s life just pave their way across her journey. The story is based at a fishing village with ideal villagers who are self-motivated to bring a change under Radhamma. The book is like a breath of fresh air a good story and some amazing recipe to offer. Worth reading and it will result in an empty stomach.

https://www.amazon.in/This-Delicious-Life-Lekshmi-Gopinathan-ebook/dp/B0778WXHXR/ref=sr_1_1?ie=UTF8&qid=1513013177&sr=8-1&keywords=the+delicious+life

PAL MOTORS…..


Author: Devraj Singh
Paperback: 300 pages
Publisher: HALF BAKED BEANS (2017)
Language: English
Sold By: Amazon Asia-Pacific Holdings Private Limited
Publishing Date: December 2017
Printed Price: INR 349
   
Writer: Devraj singh kalsi is one man who as exemplary skills of depicting emotions and his portrayal of character is unmatchable. His has beautifully described all the three leading ladies struck by loss of the only man of the house. Devraj has excellently woven this intricate tale based on relationship loss and individuality. His narration of a Sikh family settled outside Punjab and in a Bengali majority is unbelievable. What moved me more was Devraj’s skill as a writer as he had beautifully built up the characters for an eventful end.

Book: The protagonists Biji, nasib and preet face the loss of the only man in their life. Someone lost a son, a husband and later a father. Every individual has their own ego to battel with and as usual differences among them. The equation between BIji and nasib is tumultuous and the battel ahead lies for the supremacy for the families’ responsibility. Preet is an ambitious girl stuck in a yes-no relationship and amidst the catastrophe of losing her dad she has a responsibility of balancing things between her grandma and her mother. The story takes us through a Sikh funeral customs and rituals and the difference of opinion among character can easily be seen. As the story proceeds preet comes to realize and know some facts about her dad which are both unsettling and disturbing. Her dad was a well-known business man and was respected in the city for his far sightedness. As the story grows the protagonists Biji, nasib and preet come in terms with each other and they stand together to save their business empire and families dignity. The book is well written and inspite of it being about loss it had humor well intact and makes us smile. The generation gap in character is beautifully described and the complexity of emotion is human character is well fetched.

https://www.amazon.in/Pal-Motors-Devraj-Singh-Kalsi/dp/9384315753/ref=sr_1_1?ie=UTF8&qid=1513014812&sr=8-1&keywords=pal+motors

Tuesday, October 17, 2017

KANSA

KANSA
My review:
Prasant Kevin is one hell of a writer, kudos to the writer for this supple piece of work. It is well contrived and has left me awe stuck. The plot is a result of intricate planning and has the tenacity to take this piece to a greater height. All the characters are having a tumultuous past and a turbulent future. Reading this book enthralled me and left me with an urge for more. Book contains some explicit descriptions of a corrupted mind and some of a beautiful sexual encounter. 40 + murders and all follow a same pattern and the way the mystery unfolds one after another was impeccable. The work of Dr. Black endowments is extraordinary and his unconventional ways of investigation outwit everyone else. The book has been written with contemplation and it will never let you delusional. This book was an odyssey and it edifice’s for the next lined up by writer. Go read it yourself for a better understanding.

 
Product description: OVER A SPAN OF TEN YEARS, HE KILLED FORTY PREGNANT WOMEN AND THEN VANISHED WITHOUT A TRACE. AFTER FIVE YEARS OF SILENCE, HE IS BACK AGAIN, SEEKING HIS NEXT VICTIM. ONLY ONE MAN CAN STOP HIM - PROFESSOR BLACK. Maher was found unconscious in the middle of the highway and later, in the hospital, she revealed that she had escaped from a killer's house. All the details and patterns matched the serial killer 'Kansa,' who had disappeared five years ago after murdering forty pregnant women. ACP Saargi Desai was assigned to the case. She appealed to her department to bring back Professor Black to help her catch the killer. The Professor, who had a haunting past that had kept him away from the world of crime and investigation for several years, was not willing to take on this case. But the ACP managed to convince him to get on board just for this one last time. Soon after agreeing to help, the Professor realized that for the first time in his life, he had met his match. As he dug deeper into the case, everything got dirtier, the stakes went higher, and nothing was what it seemed.


https://www.amazon.in/gp/product/B06X3YF13W/ref=oh_aui_detailpage_o00_s00?ie=UTF8&psc=1

Thursday, October 12, 2017

Army girl steals civilian’s heart…

Book Title: Army Girl Steals Civilian's Heart
Author: Oswald Pereira
Format: Kindle
Total Number of Pages: 172
Publisher: Amazon Asia-Pacific Holdings Private Limited
Publishing Date: 21 Sept 2017
Printed Price: INR 120
ASIN: B075V2SGKB


This book, in particular, has all the traits to engage you in an amazing tale of love and positive vibes. Starting this book made me skeptical of how the story would build up. but believe me, this book will not disappoint you and will leave you all smiling and content. Oscar and Amrita are one hell of a couple and they hit it very well. I was intrigued and captivated with the progress of the story, and it builds up gradually into a grand one. The characters are amazingly crafted and as if they exist in real life. The book is funny witty and has moments to cherish. we are in a progressive world and breaking barriers of religion and culture is bound to happen and is happening. 
kudos Oswald Pereira I will jump onto your next book as soon as it gets published. keep up the good work and keep intact the humor.
worth 4 stars and all the praises you deserve ..
https://www.amazon.in/Army-Girl-Steals-Civilians-Heart-ebook/dp/B075V2SGKB/ref=sr_1_1?ie=UTF8&qid=1507824863&sr=8-1&keywords=army+girl+steals+civilian+heart

Saturday, October 7, 2017

खर खर खर्राटे.....


ये घटना  दिसंबर २०११ की है | कड़ाके की ठण्ड पड़ रही थी और हर बार की तरह भारतीय रेल अपनी समय सारणी की  धज्जियां उडा रही  थी | मैं इस वृतांत का हिस्सा तो नहीं पर जब भी ये वाक्या  याद आता है , मैं अपनी हंसी रोक नहीं पाता | मेरे बुआ की पुत्री  की शादी थी और मेरे पिता जी माताजी चाचाजी और चाचीजी एक साथ यात्रा कर रहे थे | गाड़ी आपने निर्धारित समय से काफी विलम्भ  से आयी थी और रात्रि के करीब १० बजे ये लोग ट्रेन  पे सवार हो गए, खाना तो इन  लोगों ने पहले ही खा  लिया था  सो सब सोने की तैयारी मैं लग गए | पिता जी  एकदम उस्ताद थे पलक झापकते ही नींद के  आग़ोश मैं समां गए  | करीब ५-६ घंटे सोने के बाद इनका उतरने वाला स्टेशन आने ही वाला था सो सब सामान समेट  कर  आपस मे  बात-चीत करने लगे | पिता जी ने यूं ही मजाक मे  माताजी से कह दिया कल रात तुम इतने जोर से खार्राटे ले रही थी की मैं  सही से सो भी नहीं पाया इस तरह  भी कोई जानवरों की तरह सोता है | माताजी एकदम अवाक रह गयीं और बस इतना कहा की एक तो चोरी उस पे से सीना जोरी | मानो बस इसी  बात की इंतज़ार मे  एक सह यात्री बैठा था, भरा हुआ और अपने धर्य को रोका हुआ | वो अनजान  यात्री हांथों को जोड़ता हुआ विनती करते हुए पिता जी से कहता है भाई साहब मैं आपके आने के पहले से अपनी बर्थ पर सो रहा था अचानक ही मेरी नींद  खुल गई ऐसा प्रतीत हुआ की ट्रेन अपनी पटरियों से उतर गई  है और बस मैं आपने जीवन के आखिरी छन  को जी रहा हूँ  | मैं उठा और पसीने पसीने हो गया पर नींद खुली तो सब कुछ सामान्य था और आप डरावने तरीके से खर्राटे ले रहे थे | मैं पिछले पांच घंटो से अपनी सीट पे बस आपके जागने मात्र  का  इन्तज़ार कर रहा हूं | एक विनती है कृपया आप यात्रा करते समय अपने सह यात्रियों का भी ध्यान  रखें और मैं और मैं भविष्य इस बात का ध्यान  रखूँगा की अगर आप मेरे आस पास की सीट पे यात्रा कर रहे हो तो मैं अपनी यात्रा अगले दिन के लिए टाल  दूंगा | उस वाक्ये को पिता जी यूँ तो हमेशाही  हंसी की तरह लेते  परन्तु जब  भी मैं उनके लिए टिकट लेता तो वो हमेशा ही स्लीपर क्लास की टिकट लेने पे ज़ोर देते  क्यों की स्लीपर मे  ट्रैन की आवाज़ इतनी होती की उनके खर्राटों की आवाज़ कहीं खो सी जाती | 
पिताजी अपनी आलोचना भी बहुत सराहनीय तरीके से लेते और यथावत कोशिस करते की जहाँ संभव हो सुधार किया जा सके | बास खर्राटों पर  ही उनका ज़ोर नहीं था | पिताजी की हर यात्रा वृतान्त रोचक ही है  |  उनके जीवन से जुड़ी कुछ रोचक घटना अगले पोस्ट में |